970*90
768
468
mobile

मई 2020 से अब तक 77,000 करोड़ रुपये का एमएसएमई बकाया चुकाया गया: नारायण राणे

Opportunity India Desk
Opportunity India Desk Jun 13 2022 - 3 min read
मई 2020 से अब तक 77,000 करोड़ रुपये का एमएसएमई बकाया चुकाया गया: नारायण राणे
सरकार के एमएसएमई समाधान के विलंबित भुगतान निगरानी पोर्टल के अनुसार, अक्टूबर 2017 में पोर्टल के शुभारंभ के बाद से सूक्ष्म और लघु उद्यमों द्वारा 1.14 लाख आवेदन दायर किए गए हैं।

माइक्रोब्लॉगिंग साइट ट्विटर पर एमएसएमई मंत्री नारायण राणे द्वारा साझा किए गए आंकड़ों के अनुसार, मई 2020 से अब तक कोविड के समय के दौरान सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यमों (एमएसएमई) को 77,000 करोड़ रुपये का बकाया चुकाया गया है।

मंत्री ने यह जानकारी मोदी सरकार द्वारा एमएसएमई से संबंधित पहलों पर प्रकाश डालते हुए साझा की, क्योंकि मोदी सरकार ने 30 मई को कार्यालय में आठ साल पूरे कर लिए थे। उन्होने एमएसएमई को देरी से किये गए भुगतान के बारे में उल्लेख नहीं किया था। इसके अलावा, जानकारी मे यह स्पष्ट नहीं किया कि क्या बकाया राशि में राज्य सरकार के विभागों, राज्य सार्वजनिक क्षेत्र की इकाइयों, निजी खरीदारों आदि से भुगतान भी शामिल है। आम तौर पर, सरकारी सार्वजनिक उपक्रमों को केवल केंद्र सरकार की इकाइयों और विभागों के लिए संदर्भित किया जाता है।

आपको बता दे पिछले वर्ष यानी की 2021 में पब्लिक सेक्टर युनिट और सरकारी विभागों ने चालू कैलेंडर वर्ष में 25 नवंबर तक एमएसएमई को लंबित भुगतानों में 50,350 करोड़ रुपये की मंजूरी दे दी थी।

मई 2020 के बाद से जब वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने एमएसएमई के लिए कोविड राहत उपायों की घोषणा की थी और अपनी प्रेस कॉन्फ्रेंस में इस बात पर प्रकाश डाला था कि सरकार और सीपीएसई से एमएसएमई प्राप्तियां 45 दिनों में जारी की जाएंगी, 25 नवंबर 2021 तक 77,171.82 करोड़ रुपये के कुल लंबित बकाया को मंजूरी दे दी गई है। ताजा आंकड़े एमएसएमई मंत्री नारायण राणे ने संसद में चल रहे शीतकालीन सत्र के दौरान साझा किए गए थे।

वित्त मंत्रालय और एमएसएमई मंत्रालय द्वारा पूरी अवधि के बयानों में साझा किए गए आंकड़ों के आधार पर वर्ष 2020 के महीने मई से बकाया राशि अगस्त के अंत तक 10,000 करोड़ रुपये से बढ़कर सितंबर तक 13,400 करोड़ रुपये और दिसंबर 2020 तक 26,821 करोड़ रुपये हो गई। दिसंबर के बाद से, 2021 नवंबर तक बकाया राशि 2.8 गुना ऊपर थी। जबकि कुल बकाया राशि का डेटा लंबित कुल राशि में बकाया राशि के मौजूदा हिस्से को मापने के लिए उपलब्ध नहीं था, मई-दिसंबर 2020 की अवधि के लिए कुल बकाया राशि 34,506.09 करोड़ रुपये थी।

एमएसएमई मंत्रालय ने वर्ष 2020 के सितंबर महीने में 500 कॉरपोरेट्स को लिखा था, इसके बाद अक्टूबर में ऐसे 2,800 अन्य उद्यमों को संबंधित महीने में लंबित एमएसएमई बकाया राशि का भुगतान करने के लिए लिखा था।

सरकार ने खरीदारों से अपने विलंबित भुगतान के मुद्दे से निपटने के लिए ट्रेड रिसीवेबल्स डिस्काउंटिंग सिस्टम प्लेटफॉर्म पर लाने का भी आग्रह किया था।

भले ही सरकार मंत्रालयों, सार्वजनिक उपक्रमों, अन्य लोगों से 45 दिनों के भीतर एमएसएमई बकाया चुकाने का आग्रह कर रही हो, लेकिन यह उन्हें बकाया का भुगतान करने के लिए मजबूर नहीं कर सकता है।मंत्रालय ने इस विषय को केंद्रीय मंत्रालयों, सीपीएसई और राज्य सरकारों और कॉर्पोरेट संस्थाओं के साथ सख्ती से उठाया है।

लेकिन, यह ध्यान दिया जाना चाहिए कि केंद्र सरकार राज्य सरकारों या राज्य सार्वजनिक उपक्रमों को बकाया भुगतान करने के लिए कोई निर्देश या बल नहीं दे सकती है, ”पूर्व वित्त राज्यमंत्री अनुराग सिंह ठाकुर ने 2020 में हुए लोकसभा में एक प्रश्न के लिखित उत्तर में कहा था।इस बीच, एम समाधान पोर्टल के आंकड़ों के अनुसार, 30 अक्टूबर, 2017 को पोर्टल के शुभारंभ के बाद से सूक्ष्म और लघु उद्यमों) द्वारा दायर विलंबित भुगतान आवेदनों की संख्या 1 लाख के करीब है, जिसमें 25,375 करोड़ रुपये फंस गए थे।

वर्ष 2021 तक एमएसई सुविधा परिषदों द्वारा 10,433 मामलों का निपटारा किया गया है, जबकि 9,410 आवेदनों को विक्रेता और खरीदार के बीच पारस्परिक रूप से निपटाया गया है और लगभग 20,000 आवेदन परिषदों द्वारा खारिज कर दिए गए थे।

Subscribe Newsletter
Submit your email address to receive the latest updates on news & host of opportunities
Entrepreneur Magazine

For hassle free instant subscription, just give your number and email id and our customer care agent will get in touch with you

or Click here to Subscribe Online

Newsletter Signup

Share your email address to get latest update from the industry